श्रीमद भागवत कथा

 

श्रीमद भागवत ‘वैदिक साहित्य के पेड़ के पके फल के जैसा प्रतिष्ठित है, जिसमें वैदिक जानकारी का सबसे पूर्ण और निश्चित लेख है|

ये बहुत सारे सामान्य प्रश्न और उनके सटीक उत्तर को बताता है जैसे की जीवन क्या है, जीवन मे हमारी भूमिका क्या है, क्या गर्भाधान और मृत्यु के चक्र से निहित है, भगवान और मनुष्य के बीच क्या जुड़ाव है, किस प्रकार भगवान को खुश कर सकते है और बहुत कुछ| भागवत वचनबद्धता के पांच तत्व और जीवन के चार अवयव जैसे धर्म(नीति शास्त्र), अर्थ, काम(प्रसन्नता) और मोक्ष(मुक्ति)|

श्रीमद भागवत कथा का महत्व

श्रीमद भागवत कथा सात दिनों का पाठ है, जो कि हमारे देश के कई हिस्सों में किया जाता है। सप्ताह जी का यह सात दिनों का पाठ भगवान कृष्ण को समर्पित होता है। श्रीमद भागवत कथा भगवान श्री कृष्ण के जीवन के बारे में हमें बताता है| इसमें १८००० श्लोक है जो की भागवत महापुराण से सम्बंधित है|

भागवत कथा भगवान श्री कृष्ण के प्रति पुरे धर्म और भक्ति के साथ पूरा किया जाता है| कथा के अंतिम दिन यज्ञ(हवन) किया जाता है जो इस वैदिक कथा के समाप्त होने की और दर्शाता है| कथा के अंतिम दिन किया जाने वाला यज्ञ गृह शांति को पाने मे भी मदद करता है|

श्रीमद भागवत कथा के लाभ

भगवान कृष्ण के कमल पद चिह्न भक्तों के जीवन से अशुभ घटनाओं को नष्ट कर देता है और सबसे बड़ा सौभाग्य लाता है।भागवत कथा मनुष्य के हृदय और आत्मा को शुद्ध करने मे मदद करता है| कहा जाता है की जो मनुष्य एकादशी को भागवतम सुनता है उनका जीवन लंबे समय तक चलता है|

अगर भागवत कथा को धार्मिक स्थल जैसे की पुष्कर, मथुरा, या द्वारका उनके जीवन से सारे भय दूर चले जाते है| ब्राह्मण जो श्रीमद भागवत कथा अध्ययन करता है वो भक्ति सेवा मे ज्ञान को प्राप्त होता है, राजा जो यही काम करता है वो समृद्धि हासिल करता है और एक दरिद्र जो इस कथा को सुनता है वो अपने सारे पापों से मुक्त हो जाता है|